रजनीश मिश्र  गाजीपुर।


गाजीपुर के विकासखंड बाराचवर मे बना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र यहां तीस से पच्चास गावों के लोग अपना इलाज कराने आते है।
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, बाराचवर
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मे क्षेत्र की महिलाओं को यहां प्रसव कराने आने पर काफी तकलीफों का सामना  करना पड़ता था ।  क्यो कि प्रसव लिए लेबर रूम में कोई आधुनिक बेवस्था नहीं थी। जिससे क्षेत्र के लोग गाजीपुर, मऊया  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मोहम्मदाबाद चले जाते थे। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बाराचावर ब्लॉक के लगभग  7 से  8 किलोमीटर की दूरी की महिलाएं  यहां प्रसव कराने आती है ।लेकिन आधुनिक सुबिधा ना होने के कारण  ये लोग गाजीपुर या मऊ चली जाती थी । लेकिन अब यहां के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर नवीन कुमार 
सिंह व हॉस्पिटल के सभी कर्मचारियों के अथक प्रयास से अब  प्रसव के लिए लेबर रूम को आधुनिकीकरण के रूप में लैह किया गया है। डॉक्टर नवीन कुमार सिंह का कहना है हम लोगों के प्रयास से और  सरकारी बजट से प्रसव  केंद्र को नवीनीकरण किया गया है।महिलाओं को किसी भी तरीके की किसी भी परेशानियों का सामना न करना पड़े जिसके लिए प्रसव कराने की सारी सुविधाएं अब अस्पताल में मौजूद है। उन्होंने बताया कि प्रसव के वक्त बच्चों के मुंह में गंदा पानी चला जाता था। जिससे बच्चों की तबीयत बिगड़ जाती थी जीसके  डर से यहां के लोग यहां प्रसव कराना नहीं चाहते थे । लेकिन अब ऑक्सीजन, वेंटीलेटर, बच्चों के मुंह से पानी निकालने वाले यंत्र की सुविधा उपलब्ध हो चुकी है। जिससे क्षेत्र की महिलाओं को प्रसव कराने में कोई परेशानी नहीं होगी उन्होंने कहा कि इसके बाद जब कोई परेशानी आती है तो 108,102 से गाजीपुर के लिए रेफर किया जाता है। यहां के हॉस्पिटल के कर्मचारियों ने बताया कि यहां जो प्रसव  केंद्र बना है जिले के किसी भी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में नहीं है। जिले का यह पहला प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है जो प्रसव केंद्र के मायने में जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से आगे है । एक सवाल के जवाब में डॉक्टर नवीन कुमार सिंह ने बताया कि मरीजों को यहां  48 घंटे रुकने के लिए कहा जाता है प्रसव कराने आए महिलाओं को नाश्ता व दोनों टाइम का भोजन दिया जाता है।

Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.