सिद्धार्थ मिश्र:अज़ान के प्रत्येक बोल के बहुत गहरे मायने हैं। मुअज्जिन (जो अज़ान कहते हैं) अज़ान की शुरुआत करते हुए कहते हैं कि अल्लाहु अकबर। याने ईश्वर महान हैं। अज़ान के आखिर में भी अल्लाहू अकबर कहा जाता है और फिर ला इलाहा इल्लाह के बोल के साथ अज़ान पूरी होती है। याने ईश्वर के सिवाए कोई माबूद नहीं।

आइए पूरी अज़ान के अर्थ पर एक नज़र डालते हैं।
"अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

अश-हदू अल्ला-इलाहा इल्लल्लाह

अश-हदू अल्ला-इलाहा इल्लल्लाह



अश-हदू अन्ना मुहम्मदर रसूलुल्लाह

अश-हदू अन्ना मुहम्मदर रसूलुल्लाह

हया 'अलल फलाह, हया 'अलल फलाह

अस्‍सलातु खैरूं मिनन नउम
अस्‍सलातु खैरूं मिनन नउम
अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर "

ईश्वर सब से महान है।

मैं गवाही देता हूं कि ईश्वर के अतिरिक्त कोई दूसरा इबादत के योग्य नहीं।

मैं गवाही देता हूं कि मुहम्मद सल्ल.

ईश्वर के अन्तिम संदेष्टा हैं।

आओ नमाज़ की तरफ़।

आओ कामयाबी की तरफ़।
नमाज़ सोए रहने से उत्तम है।
ईश्वर सब से महान है।
अल्लाह के सिवाए कोई माबूद नहीं।


अज़ान का इतिहास : मदीना में जब सामूहिक नमाज़ पढ़ने के मस्जिद बनाई गई तो इस बात की जरूरत महसूस हुई कि लोगों को नमाज़ के लिए किस तरह बुलाया जाए, उन्हें कैसे सूचित किया जाए कि नमाज़ का समय हो गया है। मोहम्मद साहब ने जब इस बारे में अपने साथियों सहाबा से राय मश्वरा किया तो सभी ने अलग अलग राय दी। किसी ने कहा कि प्रार्थना के समय कोई झंडा बुलंद किया जाए। किसी ने राय दी कि किसी उच्च स्थान पर आग जला दी जाए। बिगुल बजाने और घंटियाँ बजाने का भी प्रस्ताव दिया गया, लेकिन मोहम्मद साहब को ये सभी तरीके पसंद नहीं आए।



रवायत है कि उसी रात एक अंसारी सहाबी हज़रत अब्दुल्लाह बिन ज़ैद ने सपने में देखा कि किसी ने उन्हें अज़ान और इक़ामत के शब्द सिखाए हैं। उन्होंने सुबह सवेरे पैगंबर साहब की सेवा में हाज़िर होकर अपना सपना बताया तो उन्होंने इसे पसंद किया और उस सपने को अल्लाह की ओर से सच्चा सपना बताया।
contact for advertisement

पैगंबर साहब ने हज़रत अब्दुल्लाह बिन ज़ैद से कहा कि तुम हज़रत बिलाल को अज़ान इन शब्‍दों में पढ़ने की हिदायत कर दो, उनकी आवाज़ बुलंद है इसलिए वह हर नमाज़ के लिए इसी तरह अज़ान दिया करेंगे। इस तरह हज़रत बिलाल रज़ियल्लाहु अन्हु इस्लाम की पहली अज़ान कही। WD|
Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.