बिजनौर :  खेतों की मिट्टी का कटान कर गांव की ओर बढ़ रही गंगा,बल्ली लगाकर रोका जा रहा है गंगा से कटान। मंडावर थाना क्षेत्र में गंगा का कटान रोकने के लिए लगाई जा रही है लकड़ी की बलिया।गंगा के कटान से डरे हुए हैं ग्रामीण। गांव के नजदीक और खेतों में कटान कर गांव की और बढ रही हैं गंगा। जिससे गांव वालों को डर सताने लगा है। किसानों ने अपनी फसलों को उजाडना शुरू कर दिया है।
विकास खंड मोहम्मदपुर देवमल के गांव बालावाली से लेकर रावली तक करीब 28 गांव गंगा के किनारे बसे हुए है। जिसमें हर रोज़ इन लोगों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। ये लोग हर साल मौत के साये में जीने को मजबूर रहते हैं। अभी कुछ वर्षों पहले दो तीन गांव गंगा में समा गये थे।और उन्हें दूसरी जगह बसाया भी गया था। मगर इनकी खेती तो गंगा के पास ही है।जो अब गंगा कटान करती हुई गांव की और बढ रही है। गंगा ने गांव मीरापुर के सामने जंगल को काटना शुरू कर दिया है। और वह गांव की और बढ रही है और उधर शिमली के पास भी गंगा पहुंच गई है। लोगों को डर सता रहा है, कि अगर गंगा इसी तरह कटान करती रही तो इन गांवों का अस्तित्व भी खतरे में पड़ सकता है। जैसे गांव शीमला कला और फतेहपुर का हाल हुआ है। लोग गंगा के कटान से इतने चिंतित हो रहे की उन्होंने अपनी फसलों को उजाडना शुरू कर दिया है। गांव मीरापुर के ग्रामीण महेश कुलदीप आनंद सुशील ने बताया कि गंगा ने गांव के सामने तेजी से कटान शुरू कर दिया है हमने अपनी फसलों को उजाडना शुरू कर दिया है इन ग्रामीणों का कहना है कि गंगा जिस तेजी से कटान कर रही है वह कभी भी गांव की और भारी तबाही मचा सकती है। वहीं धामपुर क्षेत्र के सिंचाई विभाग के जेई जोगिंदर सिंह की देखरेख में लकड़ी की बल्ली लगाने का कार्य चल रहा है। उन्होंने ने बताया कि गांव शिमली के पास काम चल रहा है वहां पर प्रशासन की और से पानी में बल्ली लगाकर मिट्टी के कट्टों के सहारे कटान को रोका जा रहा है। और मीरापुर के सामने भी जो जंगल में कटान चल रहा है और गंगा गांव की और बढ रही है उसकी रिपोर्ट भी भेजी जा रही है। बहुत जल्दी ही यहां भी कटान को रोकने के लिए काम शुरू हो जायेगा।

Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.