सांकेतिक फोटो।
पटना : अपने फर्ज को लेकर बिहार पुलिस कितना गंभीर है उसकी कलई, तब खुली जब अभिरक्षा गृह में एक नाबालिग गर्भवती पाई गई। हलाकि इस संबंध में एक लेडी कांस्‍टेबल, एक होमगार्ड जवान सहित तीन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है। 
 मामले के अनुसार पटना के गायघाट स्थित उत्तर रक्षा गृह (रिमांड होम) से उपस्थापन के लिए बेतिया आने के क्रम में एक नाबालिगा के साथ उसी के कथित प्रेमी ने शारीरिक संबंध बनाए।   यह भेद तब खुला जब लड़की  के छह माह के गर्भवती होने की बात सामने आई। इस मामले में एक प्राथमिकी बेतिया राजकीय रेल थाने में दर्ज कराई गई है।
उल्लेखनीय है कि पश्चिम चंपारण जिले के कंगली थाना क्षेत्र की लड़की प्रेम प्रसंग में अपने प्रेमी टुन्ना साह के साथ वर्ष 2017 में फरार हो गई थी। बाद में पुलिस ने लड़की को बरामद कर अदालत में प्रस्तुत किया था, जहां उसने अपने घर नहीं जाने और शादी करने की बात कही। लेकिन, नाबालिग होने के कारण उसे पटना स्थित रक्षा गृह गायघाट भेज दिया गया। 
पुलिस के मुताबिक, बेतिया राजकीय रेल थाने में दर्ज प्राथमिकी में पीड़िता ने कहा है कि इस वर्ष सात जनवरी को उसे रक्षा गृह से पुलिस अभिरक्षा में बेतिया न्यायालय में लाया जा रहा था। इसी दौरान पटना से ही उसका कथित प्रेमी टुन्ना साह भी बस में सवार हो गया। हाजीपुर तक वे दोनों बस से आए। इसके बाद हाजीपुर में उनलोगों ने ट्रेन पकड़ ली। फिर मुजफ्फरपुर से बेतिया आने के दौरान टुन्ना ने होमगार्ड विश्वनाथ सिंह को पांच रुपये दिए और लड़की को बाथरूम में बुला लिया। बाथरूम में ही टुन्ना ने उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। इसके बाद न्यायालय में उपस्थापन के बाद वह वापस उत्तर रक्षा गृह में लौट गई। रक्षा गृह में जब अधीक्षिका को शक हुआ,  उसकी जांच कराई गई, जिसमें वह छह महीने की गर्भवती पाई गई। 
इस मामले के प्रकाश में आने के बाद रक्षा गृह की अधीक्षिका ने इसकी जानकारी बेतिया अदालत को दी। बेतिया के प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश के आदेश पर बेतिया महिला थाना प्रभारी पूनम कुमारी ने लड़की का बयान लिया। लड़की के बयान के आधार पर बेतिया रेल थाने में विभिन्‍न धाराओं के तहत टुन्ना साह, होमगार्ड जवान विश्वनाथ सिंह एवं कांस्टेबल मिंटू कुमारी को नामजद आरोपी बनाया गया है।


Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.