कठुआ : पंजाब और जम्‍मू-कश्‍मीर की सीमा कठुआ चेकपोस्‍ट पर एके 56 और एके 47 के साथ पकड़े तीनों दहशतगर्दों का संबंध जैश-ए-मोहम्‍मद है। यह जानकारी जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने आतंकियों के आरंभिक पूछताछ के के बाद दी। यह जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस की सबसे बड़ी कामयाबी और पंजाब पुलिस बड़ी चूक बताई जा रही है।  
उल्‍लेखनीय है कि प्रदेश की सीमा में दाखिल होते ही लखनपुर चेकपोस्‍ट पर  पकड़े गए ट्रक सवार इन आतंकियों के पास से चार एके 56, दो एके 47 राइफल के साथ-साथ छह मैगजीन, 180 कारतूस और 11 हजार की नकदी बरामद की गई है। यानी घाटी को दहलाने का पूरा सरंजाम लेकर आतंकी जम्‍मू-कश्‍मीर की तरफ रवाना हुए थे।  ट्रक में सेब की पैकिंग के लिए गत्ते के डिब्बे लदे थे।  और हथियारों को ट्रक ड्राइवर के पीछे की सीट में छिपाया गया था।  
प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एसएसपी कठुआ ने  श्रीधर पाटिल ने बताया कि सुबह आठ बजे उन्‍हें सूचना मिली की पंजाब की तरफ से एक ट्रक जम्‍मू-कश्‍मीर की सीमा में प्रवेश किया है, जिसमें वेपन हो सकते हैं। इसके बाद पुलिस ने लखनपुर के नजदीक नाका लगाकर ट्रकों की जांच शुरू कर दी। इसी बीच पंजाब की ओर से आ रहे ट्रक (जेके13ई-2000) को जांच के लिए रोका गया। 

उन्‍होंने बताया कि ट्रक सवार तीनों लोगों से बारीबारी पूछा गया, लेकिन तीनों जवाब अलग-अलग थे और वे घबराए हुए थे। इसके बाद ट्रक पर लोड सामानों को उतार की उसकी गहनता से जांच की गई तो  हथियारों की खेप बरामद हुई है।  जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने गिरफ्तार किए गए आतंकियों की पहचान उबैद-उल-इस्लाम निवासी अघलार कंडी (राजपोरा-पुलवामा), जहांगीर अहमद पारे निवासी पाखरपोरा (चरार-ए-शरीफ, बडगाम) और सबील अहमद बाबा निवासी अघगार कंडी (राजपोरा-पुलवामा) के रूप में की।  बताया जा रहा है कि ट्रक दिल्ली की ओर से चला था, जिसमें अमृतसर के आसपास हथियार लोड किए गए थे। 

एसएसपी पाटिल ने बताया कि पकड़े गए आतंकियों से  पूछताछ चल रही है। प्रारंभिक पूछताछ में यह मॉडयूल हथियारों की सप्लाई से संबंधित लग रहा है। जैश के आका पाकिस्तान में बैठे हैं लिहाजा कश्मीर के लिए जाने वाले इस असलाह की खेप कहां से आई थी, इसकी जांच जारी है। 
इधर, पठानकोट पुलिस का कहना है कि उन्‍हें नहीं मालूम की यह ट्रक मेन रोड से जम्‍मू-कश्‍मीर की सीमा में दाखिल हुआ है या लिंक रोड से। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। सूत्रों की माने तो पुलिस टोल प्‍लाजा पर लगे सीसीटीवी की फुटेज एकत्र करने में जुटी है। 
Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.