वाराणसी में पाकिस्‍तान का जनाजा निकालते संगठनों के सदस्‍य।

झरोखा न्‍यूज नेटवर्क, वाराणसी : भारत सरकार ने जम्‍मू-कश्‍मीर से  धारा 370 और 35 हटाया है तबसे पाकिस्‍तान विक्षिप्‍त सा हो गया है। कभी यूएनए तो कभी मालदीव में कश्‍मीर का रोना रो रहा है। साथ ही दुनियाभर के मुस्‍लमानों को भारत के खिलाफ एक करने का कुत्सित प्रयास कर रहा है।  
पाक हुक्‍मरान यह साबित करना चाह रहे हैं कि भारत मुस्लिम विरोधी है और भारत में मुस्‍लमान सुरक्षित नहीं हैं। लेकिन उसके इस प्रोपगंडे की बखिया उधेड़ रहे हैं प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के मुस्‍लमान।
 यहां  विभिन्‍न सामाजिक संगठनों जिनमें काफी संख्‍या में मुस्‍लमान शामिल थे ने 'जनाजा-ए-पाकिस्तान' निकाल कर पाकिस्‍तान का पुतला फूंक प्रदर्शन किया। इसके साथ ही संयुक्त राष्ट्र संघ से पाकिस्तान के परमाणु हथियार को जब्त करने की मांग की है। 
जनाजा-ए-पाकिस्‍तान विशाल भारत संस्थान एवं मुस्लिम महिला फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वाधान में सुभाष भवन, इन्द्रेश नगर से लमही मुख्य द्वार तक निकाला गया। इसमें सामाजिक कार्यकर्ताओं और बच्चों ने पाकिस्तान की अर्थी को कंधे पर रखकर पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए।  इसमें तिरंगे झंडे के साथ भारत माता की जय और वंदे मातरम् का जयघोष हो रहा था।
इस अवसर पर बनारस के मुस्लिम समाज के लोगों ने संयुक्त हस्ताक्षर से यूएन को पत्र लिखकर तत्काल पाकिस्तान के जेहादी हरकतों पर रोक लगाने की मांग की। 
पाकिस्‍तानी नेता ने गाया -सारे जहां से अच्‍छा हिंदुस्‍तां हमारा
पाकिस्‍तानी नेता अल्‍ताफ हुसैन।
उधर, पाकिस्‍तान से निवार्सित और अब लंदन में रह रहे अल्‍ताफ हुसैन ने ' सारे जहां से अच्‍छा हिंदुस्‍तां हमारा...' गा कर पाकिस्‍तान के हुक्‍मरानों के गाल पर करारा तमाचा मारा है। यकीनन यह खबर भारत को सकून और पाकिस्‍तान के पेशानी पर बल डालने वाली है। अल्‍ताफ हुसैन पाकिस्‍तान की मुत्‍ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्‍यूएम) पार्टी के संस्‍थापक हैं। इनकी पार्टी के नौ सांसद पाकिस्‍तान की संसद में जनता की नुमाइंदगी करते हैं। एमक्‍यूएम का पाकिस्‍तान के सिंध प्रांत में दबदबा है। और यह पाकिस्‍तान की तसरी सबसे बड़ी पार्टी। अल्‍ताफ भारत समर्थक हैं। वे कहते हैं मैं सच्‍चा पाकिस्‍तानी हूं और भारत से दोस्‍तान संबंध रखना चाहता हूं। 
Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.