लखनऊ :  उत्‍तर प्रदेश पुलिस में सेवाएं दे रहे 25 हजार होमगार्ड के जवानों की सेवाएं लगभग 'समाप्‍त' कर दी गई हैं। क्‍योंकि पुलिस महकमे के बजट से लगाए गए इन जवानों की सेवाएं लेने से विभाग ने मना कर दिया है। एडीजी पुलिस मुख्यालय बीपी जोगदंड ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।
एडीजी जोगदंड में अपने इस आदेश में कहा है कि कानून व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस विभाग में  25000 होमगार्ड की ड्यूटी लगाई गई थी। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 28 अगस्त को हुई बैठक में इस ड्यूटी को खत्‍म करने का निर्णय लिया गया था। इसी क्रम में लिस मुख्यालय प्रयागराज की ओर से आदेश जारी कर होमगार्ड की तैनाती तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी गई है। बता दें कि प्रदेश में इस समय 99 हजार होमगार्ड है। जिनमें से 92 होमगार्ड की सेवाएं ली जा रही थीं। 
बताया जा रहा है कि सिपाही के बराबर होमगार्ड को वेतन दिए जाने के न्यायालय के निर्देश के बाद सूबे में होमगार्ड का एक दिन का वेतन  672 रुपये हो गया था। पहले यह वेतन 500 रुपये था। इसका वेतन वृद्धि कर सीधा असर जिलों के बजट पर पड़ रहा था। शायद इसी को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। जानकारों का कहना है कि उत्‍तर प्रदेश पुलिस विभाग के इस फैसले यातायात सहित अन्‍य व्‍यवस्‍थाओं पर इसका सीधा असर पड़ेगा। वहीं शेष बचे होमगार्ड जवानों को अब 25 दिन की जगह 15 दिन का ही काम मिलेगा। 

Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.