रजनीश मिश्र, बाराचवर(गाजीपुर) : ब्लॉक मुख्यालय के स्थानीय गांव बाराचवर में पुरानी बाजार शिव मंदिर के प्रांगण में अति प्राचीन रामलीला का आयोजन किया गया। जिसमें सीता स्वयंवर राम परशुराम संवाद को दर्शाया गया।  जिसे देखने के लिए स्थानीय गांव के लोगों के साथ बाहरी गांव के लोग भी काफी संख्या में एकत्रित हुए । सीता स्वयंवर वो राम परशुराम संवाद को सुन  भक्त व रामलीला देखने वाले लोग भक्ति भाव मे डुबे हुए नजर आये । जिसने भी इस अति प्राचीन रामलीला में सीता स्वयंवर व राम परशुराम संवाद को देखा व सुना वो लोग भक्ति भाव में वशीभूत हो गए। 




 इस अति प्राचीन रामलीला में कीर्तन का भी आयोजन किया गया वही व्यास चिखुरपत पान्डेय का कहना था कि आज के रामलीला में राम लक्ष्मण ने ताड़का वध के बाद अपने गुरु विश्वामित्र के साथ राजा जनक के राज्य मिथिला में गए थे ।जहां राजा जनक ने सीता स्वयंवर का आयोजन किया था इस स्वयंवर में राजा जनक ने एक शर्त रखा था उसी शर्त के अनुसार शिव धनुष को जो भी तोड़ेगा उसी के साथ सीता का विवाह होगा ।उस स्वयंवर में अपने गुरु विश्वामित्र के आदेशानुसार राम ने शिव धनुष तोड़ा और जनक नंदनी सीता ने राम को अपने वर के रूप में स्वीकार किया। रामलीला के व्यास ने बताया कि शिव धनुष को जब राम ने तोड़ा और शिव धनुष टूटने के बाद उसी वक्त क्रोध में परशुराम जी जनकपुर आते हैं और लक्ष्मण से उनका वाद विवाद होता है। व्यास ने बताया कि रामलीला में मुख्य रूप से सीता स्वंयवर व राम परशुराम संबाद का आयोजन किया गया । इस अति प्राचीन रामलीला में मौजूद रामलीला के आयोजक व भाजपा के वरिष्ठ नेता ब्रजेंद्र कुमार सिंह, देवेंद्र कुमार सिंह ,नन्हे सिंह, नंदकिशोर मिश्र ,खेदू पांडे, चंद्रिका सिंह आदि लोग मौजूद थे
खबरों में बने रहने के लिए इस link https://appsgeyser.io/9365228/Jharokha%20News को follow करें  और हमारे facebook https://www.facebook.com/jharokhanews/?modal=admin_todo_tour  पेज पर देख सकते हैं

Previous Post Next Post

Ads.

Ads.

Ads.