चूल्‍हा चौका छोड़ महिलाओं ने संभाली नशा तस्‍करी की कमान, गुप्‍तांगों में छिपाकर ले जाती हैं हेरोइन की पुडि़या - The jharokha news

असंभव कुछ भी नहीं,India Today News - Get the latest news from politics, entertainment, sports and other feature stories.

Breaking

Post Top Ad

Jharokha news apk

शुक्रवार, 6 दिसंबर 2019

चूल्‍हा चौका छोड़ महिलाओं ने संभाली नशा तस्‍करी की कमान, गुप्‍तांगों में छिपाकर ले जाती हैं हेरोइन की पुडि़या

फाइल फोटो
कई मामलों में महिलाएं तस्‍करों के लिए कुरियर का काम करती हैं तो कई ऐसी भी मामले सामने आए हैं जिनमें महिलाएं खुद नशा तस्‍करी की कमान संभाले हुए हैं 
द झरोखा न्‍यूज, अमृृृतसर : पंजाब के दाम पर नशे का ऐसा दाग लगा कि यह छुड़ाए भी नहीं छूट रहा है। मसलन, यहां पर नशे का कारोबार चरम पर है। हालत यह है कि सूबे में करीब दो तिहाई से अधिक लोग नशे की चपेट में हैं। चाहे वह नशा शराब का हो या अफीम का। या फिर हेरोइन हो या चरस।
       मौत बांटते इस नशे को गांव से शहर और शहर से दूसरे शहर पहुंचाने में महिला तस्‍कर अच्‍छी खासी भूमिका निभा रही हैं। पुलिस को इनपर जल्‍दी संदेह भी नहीं होता और यह आसानी से एक जगह से दूसरी जगह नशे की खेप पहुंचा देती हैं। कई मामलों में महिलाएं तस्‍करों के लिए कुरियर का काम करती हैं तो कई ऐसी भी मामले सामने आए हैं जिनमें महिलाएं खुद नशा तस्‍करी की कमान संभाले हुए हैं। दूसरे शब्‍दों में कहा जाए तो ये महिलाएं चुल्‍हा चौका छोड़ बर्बादी का सामान बांटने में लगी हैा
धंधे में पकड़े गए पति तो पत्‍नी ने संभालिया कमान
तस््क्ररी  के इस खेल से जुड़ी महिलाओं में अधिकांश वो महिलाएं शामिल हैं, जिनके पति, पुत्र या घर का कोई अन्‍य सदस्‍य नशा तस्‍करी करते हुए पकड़ा गया और अब जेल सलाखों के पीछे हैं । या फिर नशे की भेंट चढ़ गए। ऐसे में परिवार के भरण-पोषण के लिए इस धंधे को शुरू कर दिया। जो पुलिस के लिए किसी मुसिबत से कम नहीं हैं। यह खुलासा नशा तस्‍करी के आरोप में पंजाब की विभिन्‍न जेलों में बंद महिला कैदियों के आंकड़ों और हाल फिलहाल हुई उनकी गिरफ्तारी से हुआ है।
 बड़ी संख्‍या में महिला तस्‍कर हुई गिरफ्तार
खनीय है कि गत आठ माह के बीच लुधियाना में 18, अमृतसर में दो , तरनतारन में तीन, फिरोजपुर में पांच  महिला नशा तस्‍करों की गिरफ्तारी बता रही है पुरुष तस्‍करों के साथ-साथ महिला तस्‍कर भी पूरी तरह सक्रिय है।  हलांकि  पंजाब पुलिस इन तस्‍करों पर नकेल कसने में कोई कस नहीं छोड़ रही। फिर भी तस्‍कर हैं कि मानते नहीं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक अभी तक पकड़ी गई महिलाओं में किसी का पति तो किसी का बेटा या किसी की मां नशे के कारोबार से जुडे़ हुए हैं। उनके पकड़ जाने पर घर खर्च चलाने या फिर नशे का नेटवर्क टूटने न पाए इसे जोड़े रखने के लिए इन महिलाओं खुद इस धंधे को संभाल लिया। पुलिस के मुताबिक जेल जा चुकी महिलाओं का कहना है कि उन्‍हें ड्रग्‍स तस्‍करी में कोई दिक्‍कत नहीं हुई। क्‍योंकि, नशा कहां से लाना है किसे देना है। यह सारे लिंक पहले से ही मौजूद थे। अत: उनका धंधा चल निकला ।
ऐसे चलता है ड्रग्‍स  तस्करी का खेल
नशे के कारोबार में संलिप्‍त ये महिलाएं दिल्‍ली में बैठे बड़े नाइजीरियन तस्‍कर से जुड़ी रहती है। तस्‍करों का एक कोड होता है। नशा तस्‍कर पुरुषों के पकड़े जाने के कुछ महिने या साल बाद यह कोड नाइजीरियन तस्‍कर किसी माध्‍यम से घर की महिलाओं तक पहुंचा देते हैं। फिर इसी कोड के जरिए महिलाएं इन तस्‍करों से जुड़ जाती हैं । और तस्‍करी का धंधा शुरू होता है।
निजी अंगों में छुपा कर लातीं हैं नशा
पुलिस सूत्रों के मुताबिक ये ड्रग्‍स तस्‍करी से जुड़ी ये चतुर महिलाएं अपने निजी अंगों में सौ - दो सौ ग्रमा की पुडि़या छुपा कर बड़ी आसानी से लेकर जाती हैं। ताकि पुलिस को इनपर शक न हो । पुलिस ने ऐसे कई मामले पकड़े हैं। महिला पुलिस कर्मियों ने जब उनकी जांच की तो उन्‍हें नशा बरामद हुआ।  इसके साथ ही नशा तस्‍करी के धंधे से जुड़ी महिलाएं अपने निजी साधनों की बजया ऑटो या बस में आती जाती हैं ताकि पुलिस नाकों पर ये पकड़ी न जा सकें।
फाइल फोटो

खुद नशे की आदी हैं महिलाएं
पंजाब के विभिन्‍न जिलों पकड़ी जा रही नशा तस्‍कर महिलाओं में 22 वर्ष की युवतियों से लेकर 65 वर्ष की महिला तक शामिल हैं। इनमें खास बात ये है कि ये महिलाएं अफीम, चूरापोस्‍त, हेरोइन और स्‍मैक जैसे नशे की आदी हैं। नशे के लिए बदनाम बस्तियों में तरनातरन की मुहल्‍ला सिंगल बस्‍ती, पठानकोट और हिमाचल की सीमा पर स्थित छन्‍नीबेली, लुधियाना में सलेमटाबरी आदि शामिल हैं। पिछले दिनों लुधियाना में धांधरा रोड पर पकड़ 40 ग्राम हेरोइन के साथ पकड़ी गई 60 वर्षीय महिला ने पुलिस को बताया कि उसका अपने पति से तलाक हो चुका है। उसकी दो बेटियों और एक बेटा है। परिवार का पेट पालने के लिए उसे इस धंधे में उतरना पड़ा। नशा तस्‍करी के आरोप में पकड़ी जा रही सभी महिलाओं  की अपनी-अपनी कहानी है।
पुलिस भी हुई सख्‍त
महिला ड्रग्‍स तस्‍करों से कैसे निपटें के सवाल पर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि नाकों पर पुरुष और महिला पुलिस कर्मी तैनात होते हैं। पुलिस कहीं कोई नरमी नही बरत रही है। महिला हो या पुरुष संदेह होने पर सभी की जांच की जाती है। जरूरत पड़ी है तो महिला पुलिस कर्मी संदिग्‍ध महिला को थाने ला कर चेक करती है। नशे पर नकेल कसना पंजाब पुलिस की पहली प्राथमिकता है।  

Pages