गाजीपुर में पहुंचा कोरोना वायरस, ब्‍लॉक बाराचवर में भी मिले तीन संदिग्‍ध, सभी आए थे विदेश से - The jharokha news

असंभव कुछ भी नहीं,India Today News - Get the latest news from politics, entertainment, sports and other feature stories.

Breaking

Post Top Ad

बुधवार, 18 मार्च 2020

गाजीपुर में पहुंचा कोरोना वायरस, ब्‍लॉक बाराचवर में भी मिले तीन संदिग्‍ध, सभी आए थे विदेश से



सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र बाराचवर
रजनीश मिश्र, बाराचवर (गाजीपुर) : कोरोना वायरस का  नोयडा दिल्ली के बाद अब गाजीपुर में भी इसका असर देखने को मिल रहां हैं।  स्वास्थ्य विभाग ने अब तक गाजीपुर जिले में कुल 59 संदिग्धों का पहचान किया हैं ।  जिन्हें स्वास्थ्य विभाग की निगरानी मे रखा गया ।   जिनमे  कुछ संदिग्धों का सेंपल जाच के लियें भेजा दिया गया हैं।  CMO बीसी मौर्या ने बताया की ये मरीज केवल संदिग्ध पाये गये हैं ।  जिन्हे स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अपने निगरानी में रखा हैं। वहीं डाक्टरों की टीम का कहना हैं की  इनकी रुटीन चेकप कर शासन को रोज भेजा जा रहां हैं।  वहीं गाजीपुर जिले के बाराचवर ब्लॉक में भी विदेशों से आये तिन लोग कोरोना वायरस के संदिग्ध पाये गये हैं।  जिनकी रुटीन चेकप कर शासन को  रिपोर्ट भेजी जा रहीं हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के बरिष्ठ डाक्टर एनके सिंह ने बताया की अब तक ब्लाक में सुबास बिन्द ग्राम हटवार जो इरान से आया हुआ हैं।
बाराचवर ब्लाक में मिले तीन संदिग्ध
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के बरिष्ठ डाक्टर एनके सिंह ने बताया की अब तक ब्‍लॉक में सुभाष बिन्द ग्राम  जो इरान से आया हुआ हैं।   हरेन्द्र कुमार, दुबई से आया हैं,  सुनील कुमार यादव  जो कुबैत से आया हैं।   ये तीन लोग संदिग्ध पाये गये हैं इनमे कोरोना की पुष्टि नहीं हुई है।  ये लोग सिर्फ संदिग्ध हैं । डॉक्टर एनके सिंह ने कहां की विदेश से आये तीनो का अस्पताल प्रसासन अपने निगरानी में रखां है।  जिनका रोज रुटीन चेकप कर शासन को भेजा जा रहा हैं।
स्रोत  सोशल साााााइटस

कोरोना से बचाव के लिए बरतेंं एहतियात 
डाक्टर एनके सिंह ने कहां की कोरोना से बचाव के लिये सभी आगंनबाडी व आशा वर्करों को दिया गया ट्रेनिंग  डॉक्टर एनके सिंह ने बताया की अस्पताल में जितने मरीज आ रहें हैं।  सभी को कोरोना से बचाव के लिय जागरूक किया जा रहां है। वहीं डाक्टर सिंह ने कहां उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से एक हेल्प लाइन  नम्बर जारी किया हैं (18००-18०-5145) वहीं आगंनबाड़ी व आशा कार्यकर्तियो को ट्रेनिंग देकर गावों मे जानकारी देने के लिए कहां गया हैं।
जिले में अब तक 49 संदिग्‍ध मिले
सीएमओ डाक्टर बीसी मोर्या ने बताया की पुरे जिले में अब तक उन्चास संदिग्ध पाये गये हैं ।जिनमे बाराचवर ब्लाक से तीन संदिग्ध हैं,जिनमे कुछ सैंपल जाच के लिए भेजें गये हैं ।लेकिन पुरे जिले अभी तक किसी में भी कोरोना की पुष्टि नहीं हुई हैं।
मुख्‍य चिकित्‍सा धिकारी डॉ: एनके सिंह

अफवाह फैलाने वालों पर होगी कार्रवाई
 थानाध्यक्ष बरेसर राजाराम और थाना ध्‍यक्ष करीमुद्दिनपुर  ने बताया की शासन के तरफ से पुलिस को भी कोरोना से बचाव के लिये निर्देश दिया गया है। थानाध्यक्ष ने बताया की थाने मे आने वाले फरियादियों को कोरोना से बचाव के लिए जागरूक किया जा रहां है। उन्‍होंने कहा कि अगर कोई भी व्यक्ति अफवाह  फैलाता पकड़ा जायेगा या अस्पताल से भगाने में मदद करेगा तो उसके उपर  सख्त कार्रवाई की जाएगी।
विदेश से आने वालों पर रखी जा रही नजर
सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र बाराचवर के विरिष्‍ठ चिकित्‍सा अधिकारी डॉक्‍टर एनके सिंह ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पुलिस प्रशासन के साथ मिल कर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग विदेश से आने वाले लोगों पर नजर रखे हुए है। विदेश से आने वाले लोगों को चाहिए कि वह बिना किसी डर के नजदिकी अस्‍पताल में जा कर अपनी जांच करवाएं। 
स्रोत  सोशल साइटस  

कोरोना से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्‍यान
  • कोरोना वायरस से बचने के लिए भीड़ में जाने से बचें।
  • हाथ मिलाने के बजाय दूर से ही नमस्‍ते करें।
  • खांसने, छीकने, बुखार, जुकाम पीडि़त व्‍यक्ति से दो मीटर की दूरी बनाए रखें।
  • बारबार साबुन या सैनिटाइजर से हाथ धोएं। 
  • मास्‍क लगाएं। स्‍वच्‍छता का ध्‍यान रखें। 
  • जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें।
  • विदेश के आए लोगों को कम से कम 14 दिन तक घर में रहें। 
  • अगर को कोरोना संदिग्‍ध दिखे तो तुरंत इसकी जानकारी स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के टोल फ्री नं: (18००-18०-5145) पर दें।
इनपर हो सकती है कड़ी कार्रवाई, जाना पड़ सकता है जेल
  • सोशल मीडिया या अन्‍य किसी साधनों/संसाधनों से अफवाह फैलाने वालों को जेल और जुमार्ना हो सकता है।
  • सैनिटाइजर, मास्‍क या अन्‍य सामग्री की जमाखोरी, निर्धारित मूल्‍य से अधिक दाम पर बेचने वालों पर कड़ी कार्रवाई हो सकती है। 
  • कोरोना संदिग्‍ध और मरीज में फर्क समझें। संदिग्‍ध को मरीज बताया तो कार्रवाई हो सकती है। 

Pages