करीमुद्दीनपुर पुलिस को मिली कामयाबी अपहृत बच्चे को बारह घंटे मे किया बरामद - The jharokha news

असंभव कुछ भी नहीं,India Today News - Get the latest news from politics, entertainment, sports and other feature stories.

Breaking

Post Top Ad

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

करीमुद्दीनपुर पुलिस को मिली कामयाबी अपहृत बच्चे को बारह घंटे मे किया बरामद



रजनीश कुमार मिश्र बाराचवर (गाजीपुर)
नफरत में लोग क्या कर जाते हैं किसी को पता नहीं चलता। चाहे पुरुष हो या महिला अपना बदला लेने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं ।चाहे कत्ल हो या अपहरण कुछ भी करने को लोग तैयार रहते हैं।
 ताजा मामला उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के करीमुद्दीनपुर थाने का है। जहां एक युवती ने एक 4 वर्षीय बालक का इसलिए अपहरण कर लिया। क्योंकि उसके दादा से किसी पुरानी रंजिश के कारण नफरत करती थी।

रात में छत के रास्ते किया अपहरण
 करीमुद्दीनपुर थाना प्रभारी दिव्य प्रकाश सिंह ने बताया कि 26 तारीख की रात करीब 11:50 पर रीना कुमारी उम्र 19 वर्ष निवासी तालखुदिया थाना करीमुद्दीनपुर । पेड़ के सहारे छत के रास्ते घर में प्रवेश कर राज खरवार पुत्र श्रवण खरवार उम्र 4 वर्ष को उठा लिया। और मौके से फरार हो गई।

बारह घंटे में पुलिस ने किया बरामद
 थाना प्रभारी दिव्य प्रकाश सिंह ने बताया कि सूचना मिलते ही। अपहृत बालक के तलाश में पुलिस ने अपने टीम के साथ जिसमें एसओ दिव्य प्रकाश सिंह, उपनिरीक्षक पवन सिंह, कांस्टेबल संजय प्रसाद, कांस्टेबल विपिन यादव कांस्टेबल नीरज यादव कांस्टेबल धर्मेंद्र सिंह व महिला कांस्टेबल मिथलेश रावत के साथ जाल बिछाना शुरू कर दिया ।व अपने मुखबिरो को भी इस काम में लगा दिया। आखिर पुलिस की रणनीति काम आई और करीब 12:00 बजे के आसपास अपहृत बालक राज के साथ आरोपी को पुलिस में देवरिया थाना करीमुद्दीनपुर गाजीपुर से बरामद कर लिया। व थाने ले कर चली आई पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

 राज के दादा नवमी खरवार से थी पुरानी रंजिश
 पूछताछ में आरोपी युवती ने बताया कि राज के दादा नवमी खरवार से पुरानी रंजिश होने के कारण बदला लेने की नीयत से राज का अपहरण किया था। किस बात की रंजिश थी आरोपी ने बताने से साफ मना कर दिया। तो वही राज के पिता श्रवण के चेहरे पर अपने कलेजे के टुकड़े को देख खुशी के आंसू निकल आए ।तो वही राज की मां ने अपने बेटे को सीने से लगा कर रोने लगी और पुलिसकर्मियों को धन्यवाद किया।

 भविष्य की मां कैसे बन सकती है  निर्दयी
 एक लड़की किसी की बहन किसी की पत्नी व भविष्य में एक आदरणीय मां बनती है। और समाज  मां के नजरों से देखता है। वह कैसे अपराध के दलदल में फस जाती है, जहां उसे सिर्फ बदनामी मिलती है। आखिर अपराध करने से पहले वो सोचती क्यों नहीं हैं। की भविष्य  में उसे समाज मां के नजरों से देखेगा।

Pages