सुहागिनों ने की वटसावित्री की पूजा - The झरोखा

असंभव कुछ भी नहीं,India Today News - Get the latest news from politics, entertainment, sports and other feature stories.

Breaking

Post Top Ad

Jharokha news apk

शनिवार, 23 मई 2020

सुहागिनों ने की वटसावित्री की पूजा





मनोज दुबे लुधियाना 
वट पूजन को यूपी औऱ बिहार में काफी संख्या में सुहागिन महिलायें इस पर्व के बड़े  धूम धाम से मनाते है। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण फैलने की वजह से लाकड़ाऊंन लागू किया गया था। लेकिन इसके बाद भी महिलाए  लुधियाना शहर के ढंंडारी खुर्द, ग्यासपुर, मोती नगर, न्यू मोती नगर, शेरपुर, बस्ती जोधेवाल समेत कई इलाकों में महिलाएं अपने घर के बगल में या आस पास   के वट बरगद के वृक्ष  के  नीचे पूजन करते नजर आए। जिसमे  दुर्गा कालोनी  दुर्गा माता मंदिर के  पण्डित राम सनेश (शास्त्री) व प्रेम नगर पण्डित विजय शास्त्री ने बताया की वट वृक्ष की जड़ों में ब्रह्मा, तने में भगवान विष्णु व डालियों व पत्तियों में भगवान शिव का निवास स्थान माना जाता है। व्रत रखने वालों को मां सावित्री और सत्यवान की कथा पढ़ना और  सुनना जरूरी होता है।



वट सावित्री व्रत कथा: यह व्रत करने से सौभाग्यवती महिलाओं की मनोकामना पूर्ण होती है। और उनका सौभाग्य अखंड रहता है।ज्येष्ठ अमावस्या के दिन सुहागिन महिलाएं अपने सुहाग की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। इस व्रत को वट सावित्री व्रत के नाम से जाना जाता है। कई जगह ये उपवास ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन भी  रखे जाने का विधान है। इस दिन वट यानी बरगद के पेड़ की पूजा की जाती है। वट  व्रत रखने वालों को मां सावित्री और सत्यवान की इस पवित्र कथा को सुनना जरूरी माना गया है वट सावित्री व्रत कथा के अनुसार सावित्री के पति अल्पायु थे, उसी समय देव ऋषि नारद आए और सावित्री से कहने लगे की तुम्हारा पति अल्पायु है। आप कोई दूसरा वर मांग लें। पर सावित्री ने कहा- मैं एक हिन्दू नारी हूं, पति को एक ही बार चुनती हूं। इसी समय सत्यवान के सिर में अत्यधिक पीड़ा होने लगी। सावित्री ने वट वृक्ष के नीचे अपने गोद में पति के सिर को रख उसे लेटा दिया। उसी समय सावित्री ने देखा अनेक यमदूतों के साथ यमराज आ पहुंचे है। सत्यवान के जीव को दक्षिण दिशा की ओर लेकर जा रहे हैं। यह देख सावित्री भी यमराज के पीछे-पीछे चल देती हैं।उन्हें आता देख यमराज ने कहा कि- हे पतिव्रता नारी! पृथ्वी तक ही पत्नी अपने पति का साथ देती है। अब तुम वापस लौट जाओ। उनकी इस बात पर सावित्री ने कहा- जहां मेरे पति रहेंगे मुझे उनके साथ रहना है। यही मेरा पत्नी धर्म है। सावित्री के मुख से यह उत्तर सुन कर यमराज बड़े प्रसन्न हुए। इस मौके मोनिका कुशवाहा, प्रियंका दुबे, लालती, राज कुमारी, सरिता देवी, निर्मला देवी,आदि मौजूद रहे

Pages